पुरुष का सीमेन (Semen) एक दूधिया तरल पदार्थ जैसा होता है जो संभोग के चरम अवस्था पर लिंग  से निकलता है। इसी सीमेन में पुरुष का स्पर्म होता है। जब पुरुष के स्पर्म की संख्या कम होती है तो वह महिला के अंडे से नहीं मिल पाता है इस कारण पुरुष महिला को प्रेगनेंट करने में असमर्थ हो जाता है।

यदि पुरुष का स्पर्म असामान्य आकार (abnormal size) का होता है तब भी वह महिला के अंडे के साथ निषेचित नहीं हो पाता है। इसके अलावा यदि पुरुष का सीमेन असामान्य है तो वह स्पर्म को प्रभावी तरीके से पहुंचा नहीं पाता है।

पुरुषों में बांझपन का मुख्य लक्षण यह है कि वह असुरक्षित यौन संबंध बनाने के बाद भी महिला को गर्भवती नहीं कर पाते हैं। पुरुषों के शरीर में पहले से ही बांझपन के कुछ लक्षण जैसे हार्मोन का असंतुलन, वृषण की नसें फैल जाना या शुक्राणु नली का अवरूद्ध हो जाना, आनुवांशिक विकार आदि संकेत उन्हें महसूस होते हैं लेकिन वे इसपर शुरूआत में ही अधिक ध्यान नहीं दे पाते हैं। पुरुषों में बांझपन के लक्षण निम्न हैं।

यौन संबंध बनाने में समस्या, स्खलित होने में कठिनाई और स्खलन में कम मात्रा में तरल पदार्थों का निकलना, सेक्स करने की इच्छा में कमी, उत्तेजना में कमी  आदि पुरुषों में बांझपन के लक्षण हो सकते हैं।

वृषण  और इसके आसपास की जगहों में दर्द, सूजन और गांठ की समस्या बांझपन का लक्षण हो सकता है।

बार-बार श्वसन तंत्र में इंफेक्शन होना, सूंघने की क्षमता में कमी आदि बांझपन के लक्षण होते हैं।

पुरुषों में असामान्य रूप से स्तन का विकास , शरीर और चेहरे पर बालों का कम होना गुणसूत्र या हार्मोनल असामान्यता का लक्षण है। जिससे वे बांझ हो सकते हैं।

एक बच्चे को गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं होने से तनावपूर्ण और निराशा हो सकती है, लेकिन कई पुरुष बांझपन उपचार उपलब्ध हैं।

पुरुष बांझपन का मुख्य संकेत एक बच्चे को गर्भ धारण करने में असमर्थता है। कोई अन्य स्पष्ट संकेत या लक्षण नहीं हो सकते हैं। कुछ मामलों में, हालांकि, एक अंतर्निहित समस्या जैसे विरासत में मिला विकार, एक हार्मोनल असंतुलन, अंडकोष के आसपास की नसों का पतला होना या एक ऐसी स्थिति जो शुक्राणु के पारित होने को अवरुद्ध करती है, संकेत और लक्षण का कारण बनती है।

यद्यपि पुरुष बांझपन वाले अधिकांश पुरुषों में बच्चे को गर्भ धारण करने में असमर्थता के अलावा लक्षण दिखाई नहीं देते हैं, पुरुष बांझपन से जुड़े लक्षण और लक्षण शामिल हैं:

  • अंडकोष क्षेत्र में दर्द, सूजन या एक गांठ
  • आवर्तक श्वसन संक्रमण
  • सूंघने में असमर्थता
  • असामान्य स्तन वृद्धि (गाइनेकोमास्टिया)
  • कम चेहरे या शरीर के बाल या एक क्रोमोसोमल या हार्मोनल असामान्यता के अन्य लक्षण
  • सामान्य शुक्राणुओं की संख्या से कम (वीर्य के प्रति मिली